कार्यक्रम कीजानकारी


कृषि उपार्जन के दौरान माह मार्च से जून तक मध्यप्रदेश की 257 मण्डियों में कृषकों द्वारा अपनी उपार्जन लाई जायेगी एवं मण्डियों के माध्यम से किसानों को पहली बार कैशलेस भुगतान किया जायेगा । मण्डियों के पास उपलब्ध किसानों का डाटाबेस भुगतान हेतु मण्डी एवं बैंकों द्वारा प्रयोग किया जाता है

ऑनलाईन सायबर अपराधों लॅाटरी फॅ्राड, नौकरी फॅ्राड आदि को रोकने एवं कृषकों को आर्थिक अपराधों से बचाने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा मध्यप्रदेश की समस्त मण्डियों में जागरूकता हेतु किसान कनेक्ट कार्यक्रम प्रस्तावित किया गया है ।


कार्यक्रम का उद्देश्य


कृषकों को उपार्जन पश्चात् सुरक्षित निवेश, सुरक्षित बैंकिंग एवं सुक्षाव व सलाह मुहैया कराने के साथ आर्थिक अपराध घटित होने से बचाने व ऑनलाईन साइबर अपराधों चिटफंड व फर्जी योजनाओं, लॉटरी फ्रॉड, नौकरी फ्रॉड आदि को रोकने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा मध्यप्रदेश की समस्त मण्डियों एवं कॉपरेटिव सोसाईटी में जागरूकता प्रदान करना है।


कार्य योजना

  • किसान कनेक्ट योजना के लिए थाना प्रभारी एवं जिला बल को संवेदनशील बनाना।
  • उपार्जन पश्चात् किसानों को लूट एवं संपत्ती संबंधी अपराधों से बचाव हेतु पुलिस बल की मंडी एवं उपार्जन सोसाईटियों में सक्रिय उपस्थिति।
  • मंडी एवं उपार्जन समीतियों में जाने वाले पुलिस बल किसानों की समस्या एवं आवेदन पर तत्काल स्वीकार कर कार्यवाही करें।
  • जिला साइबर नोडल थाने के स्टाफ द्वारा उपज मंडियों उपार्जन सहकारी समीतियों का एवं किसानों का मोबाईल डेटाबेस लेकर साइबर सेल को उपलब्ध कराना।
  • उपलब्ध डाटाबेस पर जागरूकता हेतु बल्क एस.एम.एस. करना।
  • जागरूकता हेतु ऑडियो, वीडियो, बैनर, पैम्पलेट आदि का निर्माण करना।
  • किसान क्रेडिट कार्ड की पहचान चोरी कर दुरूपयोग करने वालों की पहचान एवं सूची तैयार कर वैधानिक कार्यवाही करना।
  • प्रचार-प्रसार के दौरान जिले का साइबर नोडल थानों मंडी का स्थानीय थाना की उपलब्धता प्रचार-प्रसार सामग्री का वितरण सुनिश्चित करना।
  • साइबर मुख्यालय में होने वाले प्रशिक्षण में साइबर नोडल थाने की उपस्थिति सुनिश्चित करना।

फोटो गैलरी